40+ Independence Day Shayari in Hindi | 15 August par Shayari

Independence Day Shayari in Hindi
August 15 सब भरतिया के लिए एक बहुत स्पेशल दिन है. इस दिन में हम 1947 में हमारे देश को अंग्रेजो से स्वाधिनता मिला था इसलिए इंडिया में हर जगह 15 August को स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं.
हिन्दू, मूसली, सिख या काशई हो 15 अगस्त को हम सब जाती धर्म को भूल के एक ही जगह में इस पवित्र स्वतंत्रता दिवस को मानते हैं.
हमारा इस दिन के लिए ये कितने सारे वीर जवानों ने और देश प्रेमी ने अपना जीवन दिया है उनको हम इस इंडिपेंडेंस डे को याद करते हैं.
ईश Independence Day के लिए हमने आपके लिए ये इन Best Independence Day Shayari और August 15 par Shayari लिखे हैं. यह आपको जरूर पसंद आएगा, हमारी ये शायरी को आप आपके Whatsapp या Facebook पर भी आपके दोस्त को शेयर कर सकते हैं.
Independence Day Shayari, Independence Day Shayari in Hindi, Independence Day Shayari in English, Shayari on 15 August, 15 August par Shayari इस शेयर करके हमारी इस शायरी पोस्ट को बहुत सारे प्यार दे. 
Jay Hind 🇮🇳, Jaya Bharat 🇮🇳

  • Which Day August 15?August 15 on Sunday

🎵Independence day Shayari 🎵

🇮🇳 Independence Day Shayari 🇮🇳

सुगंध माँ के दूध की उसकी लाज बचाना
जिन्दा अगर रहे तो जग जीत क आना
मर के भी न कभी दुश्मन को पीठ दिखाना
गोली खाने पड़े तो साइन पैर ही करना

Sugandh Maa ke dudh ki uski laaj bachana
Jinda aagar rahe to jag jeet k aana
Mar ke bhi Na Kabhi Dushman ko peeth dikhana
Goli khane pade to sine per hi karna

दिल हमारा एक ही एक ही है हमारा जान,
हिंदुस्तान हमारा है हम हे उसकी शान,
जान लुटा देंगे वतं पे हो जाएंगे कुर्बान
इसलिए हम कहते हैं मेरा भारत महान

Dil hamari ek hi ek hi hai hamara Jaan,
Hindustan hamara hai ham he uski Shaan,
Jaan Luta denge watan pe Ho jaenge kurban
Isliye ham kahate Hain Mera Bharat mahan

धमकी से हम किसी जुर्म से डर नहीं सकते
समझौता किसी देश की हम कर नहीं सकते

Dhamki se ham Kisi Jurm se dar Nahin sakte
Samjhota Kisi desh ki ham kar Nahin sakte

नहाना है तो नदी में नहाओ
पोखर और तालाब में क्या रखा है,
मोहब्बत करना है तो बातन से करो
इन् बेवफा लड़कियों में क्या रखा है

Nahana hai To Nadi mein Nahao
Pokhar aur talab mein kya Rakha hai,
Mohabbat karna hai to baatan se karo
Ine bewafa ladkiyon mein kya Rakha hai

हम हिंदुस्तानी है हमारा देश ही हमारी जान है
दुश्मनो का सर कलम करना ही, हमारी वीरता की पहचान है

Ham Hindustani hai hamara Desh hi Hamari Jaan hai
Dushmano ka sar Kalam karna hi, Hamari veerta ki pahchan hai
Independence Day Shayari in Hindi

Independence Day Shayari in Hindi

दे सलामी इस तिरंगे को,
जिससे तेरा सां है,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान है..!

De salami is tirange ko,
Jisse Tera saan hai,
Sar hamesha uncha rakhna iska
Jab tak Dil mein Jaan hai..!

न पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी है,
हमारी पहचान तो सिर्फ यही है,
की हम सिर्फ हिंदुस्तानी है

Na pucho jamane Ko,
Kya Hamari kahani hai,
Hamari pahchan to sirf yahi hai,
Ki ham sirf Hindustani hai

मैं इश्क़ कर बैठा हूँ तिरंगे से,
और नशा कर बैठा हूँ वफादारी का,
बदला लेना है मुझे उन् गद्दारों से
मैं बस इंतज़ार कर रहा हूँ अपनी बारी का

Main Ishq kar baitha hun tirange se,
Aur Nasha kar baitha hun wafadari ka,
Badla lena hai mujhe unn gaddaron se
Main Bus intezar kar raha hun apni Bari ka

लहराएगा तिरंगा अब नीले आसमान पर
भारत का नाम होगा सबकी जुबान पर
ले लेंगे उसकी जान यह दे देंगे अपनी जान
कोई जो उठेगा आँख हिंदुस्तान पैर

Lahrayega tiranga aab neele Aasman per
Bharat ka naam hoga sabki juban per
Le lenge uski Jaan yah de denge apni Jaan
Koi jo uthega aankh Hindustan per

कभी ठंड में ठिठुर कर देख लेना,
कभी तपती धुप पर जल कर देख लेना
कैसे होती है हिफाज़त मुल्क की,
कभी सरहद पर चल कर देख लेना

Kabhi thand mein thithur Kar dekh Lena,
Kabhi tapti dhup par jal Kar dekh Lena
Kaise Hoti hai hifazat mulk ki,
Kabhi sarhad per chal Kar dekh Lena
Independence Day Shayari in Hindi

Independence Day Shayari in English

जमावे भर कर मिलते हैं आशिक कोई
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों से भी लिपट कर,
सोने में सिमट कर मरे हैं कई
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

Jamave bhar Kar milte Hain Aashiq koi
Magar vatan se khubsurat koi Sanam Nahin hota,
Noto se bhi lipat kar,
Sony mein simat kar mare Hain Kai
Magar tirange se khubsurat koi Kafan Nahin hota

जब आँख खुली तो धरती हिंदुस्तान की हो,
जब आँख बंद हो यादें हिंदुस्तान की हो
हम मर भी जाए तो कोई गम नहीं,
लेकिन मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो

Jab aankh khuli to Dharti Hindustan ki Ho,
Jab aankh band Ho yaden Hindustan ki Ho
Ham mar bhi jaaye to koi gam Nahin,
Lekin marte waqt mitti Hindustan ki Ho

मोहब्बत तो दिल में बांके ईमान रहता है
क्या बोलोगे तुम बिच दुश्मनी का,
यहाँ धर्म से पहले लोगों के दिल पर हिंदुस्तान रहता है

Mohabbat To Dil mein banke Imaan rahata hai
Kya bologe Tum bich Dushmani ka,
Yahan Dharm se pahle logon ke Dil per Hindustan rahata hai

तुमने हमारी नींद उड़ाई,
हम तुम्हारा चैन भी छीन लेंगे
अगर उठिए नजर कश्मीर की तरफ
लाहौर भी अब छीन लेंगे

Tumne Hamari neend udai,
Ham tumhara chain bhi chhin lenge
Agar uthie najar Kashmir ki taraf
Lahore bhi aab chhin lenge

इश्क़ तो करता है हर कोई,
मेहबूब पे तो मरता है हर कोई,
कभी बटन को मेहबुब बनाकर देखो
तुझपे मरेगा हर कोई

Ishq To Karta hai har koi,
Mehebub pe to marta he har koi,
Kabhi batan ko mehebub banakar dekho
Tujhpe marega haar koi

Shayari on 15 August

Shayari on 15 August

कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को,
जा कर ख़ुदा के घर से अब आया न जाएगा,
हमने लगाई आग हैं जो इंकलाब की,
इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा.

Kehete hai allvidaa hum ab iss zahan ko,
Jaa kar khuda ke ghar se ab aya na jayegaa,,
Humne lagayi aag hai jo inkalaab ki,
Iss aag ko kisi se bujhayaa naa jayegaa

शहीदों की क़ुरबानी बदनाम नही होने देंगे,
बची हो जो एक बूंद भी लहू की,
बची हो जो एक बूंद भी लहू की,
तब तक भारत माता का आंचल निलाम नही होंगे देंगे।

Azaadi ki kabhi shaam nahi hone denge,
Sahidon ki kurbani badnaam nahi hone denge,
Bachi ho jo ek bund bhi lahu ki,
Tab tak bharat mata ki aanchal nilaam nahi hone denge

मेरे देश का मान हमेशा यूँ ही बनाये रखूँगा,
दिल तो क्या जान भी इस पर निछावर कर दूंगा,
अगर मिले एक भी मोका देश के काम आने का,
तो बिना कफ़न के ही देश के लिए सो जाऊंगा।

Mere desh ka naam humesa yu hi banaye rakhunga,
Dill to kya jaan bhi iss par nichhabar kar dunga,
Agar mile ek bhi mouka desh ke kaam anee kaa,
To bina kafaan ke hi desh ke liye soo jaunga,

चलो फिर से खुद को जगाते है,
अनुसाशन का डंडा फिर घूमाते है,
सुनहरा रंग है गणतंत्र स्वतंत्रता का,
शहीदों के लहू से ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है

Chaloo fir se khud ko jagate he,
Anusasan ka danda fir ghumate he,
Sunhara ranga he ganatanta swatantrata ka,,
Sahidon ke lahu se ase sahidon ki hum sab sar jhukete hai,

दे सलामी इस तिरंगे को,
जिस से तेरी शान है,
सर हमेशा ऊंचा रखना इसका,
जब तक तुझमें जान है

De salami iss tirange ko,
Jiss se teri shaan hai,
Sar humesa uncha rakhna isska,
Jab tab tujhme jaan hai

Shayari on 15 August

15 August Shayari in Hindi

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत सनम नहीं होता ,
नोटोंन में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से भी खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

Zamane bhar mein milte hai Ashiq kaii,
Magar Batan se khubsurat koi sanam nahi hotaa,
Noton me bhi lepat kar,, sone me simat kar mare he kaaii,
Magar tiranga se khubsurat koi kafan nahi hota,

वतन हमारा मिसाल मोहब्बत की,
तोड़ता है दीवार नफरत की,
मेरी ख़ुशनसीबी, मिली ज़‍िंदगी इस चमन में,
भुला न सके कोई इसकी खुशबु सातों जनम में !!
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !!!

Batan humara misal mohabbat ki,
Todta hai diwar nafrat ki,
Meri khusnasib, mile zindegi iss chaman me,,,
Bhul na sake koi isski khusbu saton zanam me,,
Swatantrata diwas ki hardik shubhkamnaye!!!!!

मैं मुस्लिम , तू हिन्दू है, हैं दोनों इंसान;
मैं तेरी गीता पढ़ लूं, तू पढ़ ले मेरा कुरान,
अपने तो दिल में है दोस्त, बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान !!!

Me mushlim hu, tu Hindu hai, hai dono Insan;
Laa me tere gita padh lu, tu padh ke Kuran,
Aapne to dill me hai dost, bas ek hi armaan
Ek thali me khana khaye sara hindustan!

जहाँ प्रेम की भाषा हैं सर्वोपरि
जहाँ धर्म की आशा हैं सर्वोपरि
ऐसा हैं मेरा देश हिन्दुस्तान
जहाँ देश भक्ति की भावना हैं सर्वोपरि

Yanha prem ki bhasa hai sarbopari,
Yanha dharm ki aasa hai sarbopari,
Asa hai mera desh hindusthan,
Yanha desh bhaki ki bhabna hai sarbopari

मोहब्बत का दूसरा नाम हैं मेरा देश
अनेको में एकता का प्रतिक हैं मेरा देश
चंद गैरों की सुनना मुझे गँवारा नहीं
हिन्दू हो या मुस्लिम सभी का प्यारा है मेरा देश

Mohabbat ka dusra naam hai mera desh,
Aneko me ekta ka pratik hai mera desh,
Chand gouron ki sunna mujhe gabara nahi,
Hindu Ho ya mushlim sabhi ka pyar hai mera desh

Shayari on 15 August

स्वतंत्रता दिवस पर बधाई संदेश

खुशनसीब हैं जो वतन पर कुर्बान हुये
जो तिरंगे में लिपट कर जिन्दगी से आजाद हुये
मर कर भी अमर हो गये वो
साधारण मनुष्य से शहीद की शहादत हो गये वो

Khushnaseeb hai jo batan par kurban hui,
Jo tirange me lipat kar zindegi se azaad hui,
Mar kar bhi amaar ho gayi woh,
Sadharan manushya se sahid ki sahadat ho gaye woh

मोक्ष पाकर स्वर्ग में रखा क्या हैं
जीवन सुख तो मातृभूमि की धरा पर हैं
तिरंगा कफ़न बन जाये इस जनम में
तो इससे बड़ा धर्म क्या हैं

Moksh paakar swarg me rakha kya hai,
Ziban sukh to matrubhumi ki dhara par hai,
Tiranga kafaan ban jaye iss zanam me,
To iss se bada dharm kya hai

सदा ही लहराता रहे ये त्रिरंगा हम्मर,
सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमर

Sada hi laharata rahe ye triranga hammara,
Sare jaha se achha hindustan hamar

जिक्र अगर हीरो का होगा
तो नाम हिंदुस्तान के बीरो क होगा

Jikra Aagr hero ka hoga
To naam hindustan ke Biro k hoga

मरने क बाद भी जिसके नाम पे जान हे,
ऐसे जांबाज सैनिक हमारे भारत क सां हे

Marne k baad bhi jiske naam pe jaan he,
Yesa jabaj sainik hamare bharat k saan he

Shayari on 15 August

15 अगस्त की बधाई शायरी

मेरे कलम से मेरा वागबट हो जाता हे,
में इश्क़ लिखना चाहो तो हिंदुस्तान लिखा जाता हे

Mere kalam se mera wagbat ho jata he,
Me ishq likhna chahu to hindustan likha jata he

न पूछो ज़माने को क्या हमारी कहानी हे,
हमारी पहचान तो शरीफ ये हे की
हम्म शरीफ हिंदुस्तानी हे!

Na pucho jamane ko kya hamari kahani he,
Hamari pehechan to shrif ye he ki
Humm shrif hindustani he!

सदा ही लहराते रहे ये त्रिरंगा हम्मर,
सरे जहसे अच्छा हिन्दुसिता हमारा

Sada hi laharate rahe ye triranga hammara,
Sare jahase achha hindusita hamara

क्या हुंदु क्या मुस्लिम,
क्या सिख क्या इशाई,
मेरा भारत माँ ने कहता
हम्म सब है भाई भाई

Kya hundu kya muslim,
Kya sikh kya eshai,
Mera bharat maa ne kahata
Humm sab he bhai bhai

इस मिटटी को खून से सवारेंगे,
गले मिलो तो नजर उतरेंगे,
अगर उठाए नजर मेरी हिंदुस्तान की तरफ,
इस मिटटी की कसम घर में घुस के मारेंगे

Es mitti ko khun se sawarenge,
Gale milo to najar utarenge,
Aagar uthae najar meri hindustan ki taraf,
Es mitti ki kasam ghar me ghus ke marenge

Shayari on 15 August

15 अगस्त की देशभक्ति शायरी

इतनीसी बात हवाबो को बताये रखना,
रोशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू दे कर की है जिसकी हिफाजत हुमंने,
ऐसे त्रिरंगे को हमेसा आपने डिल में दवाये रखना

Etnisi baat hawabo ko bataye rakhna,
Rosni hogi chirago ko jalaye rakhna,
Lahu de kar ki he jiski hiphajat hummne,
Yese trirange ko hamesa aapne dill me dawaye rakhna

कीमत करो शहीदों की
वो देश पर कुर्बान हुए
सिर्फ दो दिनों की मोहताज नहीं हैं देश भक्ति
नागरिको की एकता ही हैं देश की असल शक्ति

Kimaat karo sahidon ki,
Woh desh par kurban hua,
Sirf do dino ki moohtaz nahi hai desh bhakti,
Nagriko ki ekta hi hai desh ki asaal bhakti

में भारत वर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ,
यहाँ कि सुनहरी मिट्टी का गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नही है, स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने कि
तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूँ.

Me bharat barsh ka hardam amiit samman karta hun,
Yanha ki sunhari mitti ka gungaan karta hun,
Mujhe chinta nahi he, swarg jaakar moksh pane ki,
Tiranga ho kafaan mera bas yehi armaan rakhtaa hun

इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना,
इतनी सी बात हवाओं को बताए रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू लेकर की है जिसकी हिफ़ाजत हमने,

Itni si baat habaoon ko bataaye rakhna,
Itni si baat habaoon ko bataaye rakhna,
Roushni hogi chiragon ke jalaye rakhna,
Lahu lekar ki hai jishki hifaazat humne

न मरो अपनी बेवफा सनम के लिये,
दो गज जमीन नही मिलेगी दफ़न होने के लिए,
अगर मरना ही हैं तो मरो अपने वतन के लिए,
हसीना भी ख़ुशी से दुप्पटा उतार देगी तुम्हारे कफ़न के लिए।

Naa mere aapni bewafa sanam ke liye,
Doo gaz zamin nahi milegi dafan hone ke liye,
Agar marna hi ho to mere aapne baatan ke liye,
Hasina bhi khusi se dupatta utaar degi tumhare kafaan ke liye

🇮🇳Thank you for Visiting🇮🇳

15 August भारत स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) मनाएगा। 15 अगस्त, 1947 के दिन हिन्दुस्तान अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था। तब से हर साल देश में 15 अगस्त का दिन स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मनाया जाएगा। 

भारत के प्रधानमंत्री दिल्ली के लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं. 15 अगस्त को स्कूलों से लेकर दफ्तरों में तिरंगा फहराया जाता है। हमें जो आजादी मिली उसमें इस मातृभूमि के लाखों अमर सपूतों ने अपने प्राणों की कुर्बानी दी थी। 

इस राष्ट्रीय पर्व के जश्न के मौके पर हम अपने प्राणों को न्यौछावर करने वीरों को याद करें। एक-दूसरे को शुभकामना संदेश भेजें। तो आइए उन बलिदानियों की भावनाओं दर्शाने वाले शेर, शायरी और संदे्श लोगों तक पहुंचाएं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.